Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Ut elit tellus, luctus nec ullamcorper mattis, pulvinar dapibus leo.

Results

-

#1. धारा 3 के अधीन अकृतता की आज्ञप्ति पारित होने के बाद पैदा हुआ सन्तान माना जायेगा

#2. बाल विवाह प्रतिषेध अधिकारी द्वारा सद्भावना पूर्ण की गयी किसी बात के बारे में कोई आपराधिक या सिविल कार्यवाही नहीं की जा सकेगी, कहा गया है

#3. धारा 13 के अधीन न्यायालय व्यादेश दे सकता

#4. धारा 4 के अन्तर्गत जिला न्यायालय किसे आदेश देता है कि वह भरण पोषण का भुगतान

#5. जिला न्यायालय के अन्तर्गत आते हैं-

#6. बाल विवाह प्रतिषेध अधिकारी एक लोक सेवक होगा, कहा गया है-

#7. बाल-विवाह का अनुष्ठान करने के लिए दुष्प्रेरक दण्डित किया जा सकेगा

#8. बाल विवाह के लिए दोषी व्यक्ति का दण्ड होगा

#9. निम्नलिखित में से कौन बाल विवाह को शून्यकरणीय घोषित करा सकता है?

#10. इस अधिनियम के अधीन कारित अपराध होता

#11. बाल विवाह करने वाले वयस्क पुरुष को दण्डित करने का प्रावधान किस धारा में है?

#12. बाल विवाह हेतु निम्नलिखित दोषी माने जाते हैं-

#13. इस अधिनियम की धारा 13 के अधीन बाल विवाह का प्रतिषेध करने के लिए व्यादेश दे सकता है-

#14. बाल विवाह को अकृत घोषित कराने की याचिका कहाँ दाखिल होती है?

#15. किसी व्यक्ति का विवाह बलपूर्वक या प्रवंचनापूर्ण उपायों द्वारा करा दिया जाता है,ऐसा विवाह होगा-

#16. धारा 13 (1) के अधीन आदेश का अवज्ञा करने पर निम्नलिखित में से कौन दण्डनीय नहीं होगा?

#17. व्यादेश का उल्लंघन करके किये गये विवाह की प्रकृति होती है-

#18. बाल विवाह होने से रोकने के लिए व्यादेश देने की शक्ति न्यायालय को किस धारा के अन्तर्गत

#19. बाल विवाह के दोषी व्यक्ति को कितनी सजा दी जा सकती है-

#20. 18 वर्ष से ऊपर आयु का वयस्क पुरुष बाल- विवाह की संविदा करता है, उसे दण्डित किया जा सकेगा

Finish